suhagrat me kya nahi kare?

suhagrat me kya nahi kare?

सुहागरात में क्या नहीं करें?

suhagrat hindi tips, suhagrat me kya kare, suhagrat me kya nahi kare?

भारतीय परम्परा के अनुसार विवाह को एक पवित्र बंधन माना जाता है, जिसमें दो लोग(स्त्री और पुरूष) हमेशा के लिए एक मधुर रिश्ते की डोर से बंध जाते हैं। विवाह को मात्र गुड्डे-गुड़िया का खेल भर समझना मूर्खता होगी। यह तो विश्वास और प्रेम के धागे से बंधा वह रिश्ता है, जिसे अगर आपसी समझ और धैर्य के साथ निभाया जाये तो पति-पत्नी का रिश्ता प्रगाढ़ हो जाता है। विवाह के बाद अहम और खास घड़ी होती है सुहागरात की। सुहागरात को लेकर स्त्री और पुरूष दोनों ही बड़े उत्साहित और बेचैन रहते हैं। साथ ही शंकाओं व भ्रम से भी घिरे रहते हैं जैसे- क्या होगा, कैसे होगा, शुरूआत कैसे करें, कहीं इस रात कोई गलती न हो जाये इत्यादि।

आप यह हिंदी लेख suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

अगर आपकी भी शादी जल्द ही होने वाली है और आप भी सुहागरात को लेकर बहुत-सी चिंताओं में घिरे हुए हैं, तो यह हिंदी लेख हो सकता है आपके लिए बहुत ही फायदेमंद।

अक्सर सुहागरात में स्त्री और पुरूष घबराहट व हड़बड़ी में कर बैठते हैं कुछ गलतियां, जोकि बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए, क्योंकि ऐसी गलतियां कर सकती हैं सुहागरात का मजा किरकिरा।

सुहागरात में गलती से भी न करें ये गलतियाँ-

suhagrat me kya nahi kare

1. संभोग को लेकर उतावली न दिखायें
अधिकतर पुरूष सुहागरात को लेकर इतने उतावले होते हैं कि उनमें सब्र नाम की कोई चीज नहीं होती। फटाफट पत्नी को दबोच कर जल्दी-जल्दी शारीरिक मिलन में लीन हो जाते हैं, जिससे न तो पत्नी को आनंद आ पाता है और न ही पुरूष को, क्योंकि हड़बड़ी में पुरूष शीघ्र ही स्खलित हो जाते हैं। उसके बाद उन्हें अपनी गलती का एहसास होता है कि उनकी पार्टनर तो अधूरी ही रह गई। इसके अलावा आपकी छवि भी पत्नी के समक्ष बुरी बन जायेगी। उसे लगेगा कि आपको केवल शरीर से प्यार है, भावनात्मक रिश्ते से आप बहुत दूर हैं। रोमांस और प्यार का मजा तो धीरे-धीरे आगे बढ़ने में है। पहले एक-दूसरे को समझें और सहज महसूस करायें। इसके बाद ही दोनों की रजामंदी से संभोग क्रिया को अंजाम दें।

2. एक-दूसरे के परिवारजनों की कमियां व बुराई गिनाना
याद रखिए कि कभी भी इस रात को खासकर दुल्हन के घरवालों व किसी ऐसे प्रियजनों जिनसे आपकी दुल्हन का बहुत ही करीबी रिश्ता हो या लगाव हो, उनकी बुराईयाँ व कमियाँ न निकालें। दुल्हन भी ऐसा कदापि न करें। यह रात तो एक-दूसरे को प्यार करने व समझने की रात होती है, इसलिए इसे यूं ही बुराईयां करने में बर्बाद न करें। अगर आप एक-दूसरे के परिवार वालों की बुराईयां करने बैठ जायेंगे, तो हो सकता है केवल यह एक रात(सुहागरात) ही नहीं, बल्कि पूरा वैवाहिक जीवन ही खराब हो जाये। एक-दूसरे के घरवालों की बुराईयां करने से आप दोनों के बीच में नफरत की बहुत बड़ी दीवार खिंच सकती है, इसलिए बुराइयों को करें साइड और रहें फ्रेश माइन्ड।

यह भी पढ़ें- शीघ्रपतन

3. एक-दूसरे की कमियाँ ढूंढना
जैसे कि ऊपर बताया गया है कि एक-दूसरे के परिवार वालों की कमियाँ व बुराईयाँ न निकालें। ठीक उसी प्रकार इस बात का भी ध्यान रखें कि आपस में एक-दूसरे की कमियों को भी न ढूंढने बैठ जायें। कई जोड़े पहली ही रात में एक-दूसरे की गलतियां गिनाने बैठ जाते हैं, जोकि सही नहीं है। क्योंकि स्त्री हो या पुरूष एक अपना स्वाभिमान व अहम कहीं-न-कहीं दोनों के ही अंदर होता है, जिस कारण एक-दूसरे की कमियाँ गिनाने से दिल के किसी कोने में एक नफरत की चिंगारी सुलग सकती है, जोकि भविष्य में आगे चलकर ज्वालामुखी का रूप भी ले सकती है। औरे वैसे भी दुनियां में कोई भी इंसान स्वयं में परिपूर्ण नहीं होता। कुछ न कुछ कमी हम सब में होती है, इसलिए छोटी-मोटी गलतियों व बातों को नजरअंदाज करें और खुलकर रोमांस करें।

Suhagrat.co.in

4. केवल अपनी मनमर्जी करना
दूल्हा और दुल्हन को इस रात में यह भी ध्यान रखना चाहिए कि केवल अपनी ही मर्जी एक-दूसरे पर न थोपते जायें। फिर चाहे वो सेक्स को लेकर हो, संभोग में प्रयोग किये जाने वाले आसनों को लेकर हो, आलिंगन, चुम्बन या फिर कुछ हटकर जैसे कि ये पहनो, ये नहीं पहनों, बत्ती बंद करो या न करो इत्यादि। इस रात को एक-दूसरे की सुनें भी और मानें भी, तभी दोनों इस रात को पूरी तरह से एन्ज्वाॅय कर पाओगे। अगर केवल अपनी ही चलाते रहोगे, दूसरे की बिल्कुल नहीं सुनोगे, तो इस रात को दोनों ही एक-दूसरे का दिल नहीं जीत पाओगे और सुहागरात केवल औपचारिकता बनकर रह जायेगी।

5. अतीत को दोहराना
सुहागरात में पति-पत्नी को एक-दूसरे से केवल अपने भविष्य को लेकर चर्चा करनी चाहिए, न कि पुराने गढ़े मुर्दे उखाड़ने चाहिए। क्योंकि विवाह भविष्य की एक सुनहरी पहल होती है और इस पहल में अगर अपने अतीत को दोहराओगे तो हो सकता है, कोई बात अचानक ऐसी निकल आये, जिससे आपके पार्टनर का मन पूरी तरह अशांत हो जाये और सुहागरात का मजा ही किराकिरा हो जाये। इसलिए अतीत का गला दबोचें और भविष्य की सोचें।

सेक्स समस्या से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

<-- wqqd9333 -->xxx720.vip