Suhagrat Ko Banaye Romantic

Suhagrat Ko Banaye Romantic

सुहागरात को ऐसे बनायें रोमांटिक!

शादी की पहली रात यानी सुहागरात में करें या क्या न करें, यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम इसे कितना महत्व देते हैं। जब तक आज के युवा लोग शादी की पहली रात, जिसे सुहागरात के नाम से जाना जाता है, का महत्व नहीं समझेंगे, यह परेशानी बनी ही रहेगी। सुहागरात की खासियत या मूल भावना को समझने के लिए, शादी के महत्व को जानना व समझना अति आवश्यक है। शादी की मर्यादा को जानना जरूरी है। शादी दुल्हा-दुल्हन के लिए दो दिलों का बंधन होता है और जो शादी के महत्व को जानते हैं, उन्हें इस बात का अच्छे से एहसास होता है, कि शादी केवल एक रस्म मात्र नहीं है। विवाह के खास पहलू को जो लोग समझते हैं, उन्हें पता होता है कि शादी की पहली रात कितनी खास रात होती है। शादी की पहली रात ही वह रात है, जब दो अनजान लोग मिलकर शादी के बाद की शुरूआती जीवन की पहली मजबूत नींव रखते हैं। नयी जिन्दगी की शुरुआत करते हैं।

अक्सर यार, दोस्त सुहागरात को लेकर बहुत मजाक भी करते हैं, लेकिन सही मायने में देखा जाये तो यह हंसी मजाक विषय नहीं होता। यह तो जीवन का बहुत जरूरी और खास पल होता है, जिससे दो लोग बहुत करीब आकर जीवन भर के लिए जुड़ जाते हैं।
वैसे देखा जाए तो शादी से पहले महिलाएं और पुरुष दोनों को ही अपनी पहली रात, जिसको सुहागरात कहा जाता है, उसको लेकर चिंता होती है। लेकिन हमारी सलाह यही है कि आप डरें व घबरायें नहीं।

यह आर्टिकल आप Suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

सुहागरात से जुड़ी खास बातें:

जरूरी नहीं की शादी की पहली रात पुरुष ही शुरुआत करे। दोनों मिलकर भी इसकी शुरूआत कर सकते हैं, क्योंकि अगर दोनों एक-दूसरे सहयोग करेंगे तो किसी के भी मन में डर और उत्सुकता नहीं रहेगी।

सुहागरात के दिन ज्यादा बेचैन या उतावलेपन से बचना चाहिए। अपने व्यवहार को सरल बनाए रखें। बहुत सारे सपनों को एक साथ न संजोए। उस रात जो भी हो उससे दिल से स्वीकार करें और एक-दूसरे की भावनाओं को सम्मान दें।

सुहागरात में संभोग करने से पूर्व अपने पार्टनर से आत्मविश्वास के साथ बात करें। आपके मन में जो भी दुविधा या शंका उसका प्रेम से बातचीत करके हल निकालें।

पति-पत्नी के बीच जीवन भर का संबंध होता है, इसलिए इस रात को बडे़ ही संयम और प्यार से गुजारने का प्रयत्न करें। ताकि केवल यह पहली रात ही नहीं जीवन की हर रात आप दोनों के लिए एक मीठा एहसास लेकर आये।

अपने पार्टनर को सरप्राइज दीजिए, जो उसको पसंद आए। ऐसा करने से पार्टनर का दिल जीत पायेंगे और यह रात और भी रोमांटिक हो जायेगी।

सुहागरात में संभोग करने से पहले फोर-प्ले जरूर करें, इससे आपको आगे बढ़ने में मदद मिलेगी और पार्टनर भी सहज महसूस करेगा।

संभोग के समय ऐसे आसन या तरीके अपनाइए जो सुविधाजनक हो। इस रात नये एक्सपेरिमेंट ना करें।

अगर आप सोच रहे हैं कि संभोग से पहले संभोग की बातें करने से आपकी इमेज बोल्ड बनेगी तो ऐसा नही है। इससे आपके बीच आपसी समझ और तालमेल बनता है।

पार्टनर की भावनाओ का ध्यान जरूर रखे। उसकी इच्छाओं को अनदेखा न करें।
अगर आप ऊपर बताये गये टिप्स को अपनाते हैं, तो आपकी भी शादी की पहली रात एक खास रोमांटिक रात बन जायेगी।

suhagrat.co.in

इस पर भी जरूर ध्यान दें..

सुहागरात में भूलकर भी न करें ये 5 गलतियां-

शादी की पहली रात यानी सुहागरात को दोनों पति-पत्नी एक-दूसरे को अच्छी तरह समझते हैं और एक-दूसरे की पसंद-नापसंद को जानते हैं। लेकिन कुछ बातें ऐसी हैं जो अगर सुहागरात पर की जाएं, तो इससे रिश्ता खराब हो सकता है। आइए जानते हैं कि शादी की पहली रात ऐसी कौन सी गलतियां हैं, जिनसे बचना चाहिए।

Suhagrat Ko Banaye Romantic

1. अतीत के बारे में:
सुहागरात में एक-दूसरे के अतीत के बारे में बात बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। अगर ऐसा करते हैं, तो इससे रिश्ते में कड़वाहट आ जाती है और पहली रात भी खराब हो जाती है।

2. परिवार में कमी-पेशी निकालना:
ज्यादातर शादी-विवाह में कितना भी करो, कोई न कोई छोटी-मोटी कमी रह ही जाती है। ऐसे में सुहागरात वाले दिन पति को चाहिए कि अपनी पत्नी के परिवार वालों में कमी न निकाले और न ही उनकी बुराई करे। उसी तरह लड़की भी अपने ससुराल वालों के बारे में कोई बात न करे।

3. जल्दबाजी में रोमांस करना:
शादी की पहली रात को दो लोग एक-दूसरे को तन-मन से अपना लेते हैं, लेकिन प्यार और संभोग करने में उतावनापन नहीं दिखाना चाहिए, बल्कि अपने साथी की रजामंदी लेकर ही संभोग की क्रिया को प्यार से और एक-दूसरे की इच्छा के मुताबिक शुरू करना चाहिए।

4. पार्टनर में कमी निकालना:
शादी की रात कभी भी अपने पार्टनर में कमी न निकालें, क्योंकि कोई भी व्यक्ति पूरी तरह से अपने आप में पूर्ण नहीं होता। ऐसे में पहली रात को एन्जॉय करें और एक-दूसरे में कमियां निकालने से परहेज करें।

5. एक-दूसरे की मानें-
कुछ लोगों को यह बुरी आदत होती है कि वे सिर्फ अपनी ही सुनाते और मनवाते हैं। सामने वालों की बात उनके लिए कोई मायने ही नहीं रखती, न ही सुनने की कोशिश करते हैं, जोकि बहुत गलत बात है। अपनी सुहागरात पर खुद भी बोलें और साथी को भी बोलने का पूरा अवसर दें, जिससे रिश्ते में मजबूती आएगी।

सेक्स से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.. http://chetanonline.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *