Shadi Ki Pehli Raat Ke Tips

Shadi Ki Pehli Raat Ke Tips

शादी की पहली रात के टिप्स

क्या क्या सपने नहीं संजो कर बैठी होती एक दुल्हन अपने पति के लिए कि सुहागरात को वो उससे रोमांटिक बातें करेगा, उसके दिलों-दिमाग पर छा जायेगा, उसे संसार की सबसे खूबसूरत और खुशनसीब पत्नी होने का एहसास करवाएगा. वो रात जब पुरुष और स्त्री एक दूसरे को अपना तन मन समर्पित कर एकाकार होजाते हैं और सदा सदा के लिए सही मायनों में पति-पत्नी बन जाते हैं. लेकिन अपने अनाड़ीपन और कई बार दोस्तों के अधकचरे ज्ञान के कारण पुरुष अपनी और अपनी पत्नी की इस अनमोल रात को बेसब्री में आकर बेकार ही बीत जाने देते हैं और उसके बाद एक असफल सुहागरात का अफ़सोस ज़िन्दगी भर मियां-बीवी को सालता रहता है. किसीसे कुछ कह भी नहीं सकते. बस यह टीस अंदर ही अंदर रह जाती है कि काश हमारी भी सुहागरात शानदार और यादगार होती !

आप यह हिंदी लेख suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

खैर, अगर आपकी भी जल्दी ही शादी होने वाली है तो आपको चिंता करने की कतई भी जरुरत नहीं है ! हम ने यहाँ पर वे सारे सुहागरात टिप्स आपके लिए समझा कर लिखे हैं जिन्हें यदि आपने ध्यान से पढ़ कर आजमाया तो आपकी सुहागरात न केवल यादगार होगी बल्कि ऐसी खूबसूरत और रोमांटिक  सुहागरात अपनी पत्नी के साथ बिताने के बाद आपकी पत्नी जीवन भर आपकी प्रेम कला की दीवानी बन कर रह जायेगी. आइये पढ़िए कि सुहागरात कैसे मनाएं…

आइए जानते हैं सुहागरात के कुछ जरूरी टिप्स:-

Shadi Ki Pehli Raat Ke Tips

1) ढेर सारी प्यार भरी बातें करें: जितना हो सके, शारीरिक मिलन की जल्दबाज़ी न करें बल्कि पुरे इत्मीनान से शादी की पहली रात यानि सुहागरात को अपनी पत्नी से खूब सारी बातें करें. जहाँ तक हो सके, सीरियस बातें अवॉयड करें और हलकी फुलकी बातों से शुरू करें ताकि माहौल से तकल्लुफ़ दूर हो जाये और आपकी पत्नी आपसे बात करने में सहज महसूस करे. ज़रा सोचिये, अगर आपकी पत्नी आपसे बात करने में ही सहज अनुभव नहीं करेगी तो आपको अपना तन सौंपने में कैसे खुल पायेगी? वैसे भी आज भी हिंदुस्तान के गाँवों-कस्बों में निन्यानवे प्रतिशत शादियां अरेंज्ड ही होती हैं और पति – पत्नी एक दूसरे के बारे में ज्यादा नहीं जानते. बात करने से मन की हिचकिचाहट दूर हो जाती है और दोनों पार्टनर खुल कर आगे मिलन की रात को हसीं बनाने के लिए बढ़ सकते हैं.

यह भी पढ़ें- संभोग

Shadi Ki Pehli Raat Ke Tips

2) सुहागरात को गिफ्ट  देना न भूलें : भले ही आपकी अरेंज्ड मैरिज ना हो और लव मैरिज हो और आपने शादी से पहले अपनी पत्नी को सैकड़ों गिफ्ट दिए हों, तब भी अपनी पत्नी को सुहागरात पर एक रोमांटिक सा गिफ्ट देना न भूलें. याद रखिये, आपकी इस गिफ्ट को आपकी पत्नी सारी ज़िन्दगी सहेज कर रखने वाली है.  तोहफा ऐसा हो जिसे आपके प्यार की निशानी मानकर आपकी पत्नी सारी जिंदगी संभल कर सके जैसे कि कोई रिंग, वगैरा. और हाँ, इस गिफ्ट के मामले में कंजूसी न करें. यह शादी कि पहली  रात आपकी पत्नी के लिए आपका फर्स्ट इम्प्रेशन बनाने वाली है. अगर सस्ते गिफ्ट के चक्कर में पड़े तो जीवन भर ताना सुनना पड़ेगा.

3) माहौल को रोमांटिक बनाना शुरू कीजिये : तो अभी तक आपने अपनी पत्नी से बातें की, उनके साथ हल्का फुल्का मजाक किया, उनकी सुंदरत की तारीफ़ की, उन्हें गिफ्ट दी और अपने प्रेम का इजहार किया. अब तक आपकी पत्नी भी आपसे खुल बात करने लगेगी. अब वक़्त है माहौल पूरी तरह से रोमांटिक बनाने का. इसलिए अब बाकी सारी बातों से ध्यान हटा कर पूरी तरह से अपनी पत्नी की तरफ ले आएं. प्यार भरी बातों कि शुरुआत करें, उनकी चेहरे की, बालों की, आँखों की होठों की तारीफ़ करें. उन्हें एहसास कराये कि उनसे शादी करके आप अपने आपको खुशकिस्मत महसूस कर रहे हैं.

Suhagrat.co.in

अगर आप गाना गाते हैं समझ लीजिये इसी वक़्त के लिए भगवान ने आपको सुरीला गला दिया है. कोई ऐसा रोमांटिक गाना या ग़ज़ल सुनाइये कि बस आपकी पत्नी आपकी बाहों में खिंची चली आये. गाना नहीं आता तो कुछ अच्छी शायरी जरूर याद कर लीजिए. यकीन मानिये, एक अच्छी शायरी वो मुहब्बत भरा असर कर सकती है जो घंटों तक प्यार जताने से नहीं होने वाला.

यही वक़्त है जब आप दोनों एक दूसरे से अपनी पसंद और नापसंद भी जाहिर कर सकते हैं. इस वक़्त आपकी पत्नी आपको जो बताये उसे ध्यान से सुनिये, सुहागरात को और आने वाली अनेकों रातों को प्यार करते समय यह आपके बहुत काम आने वाला है.

4) अपने पार्टनर को स्पेशल महसूस कराएं: सुहागरात से पहले दिन, सुहागरात और आने वाले दिनों में अपने पार्टनर को खास और स्पेशल होने का एहसास कराएं जैसे कि आपकी ज़िन्दगी में अब उससे बढ़कर किसी कि अहमियत नहीं है और यही हकीकत है . खासकर कुछ समय के लिए आप बाकि बातों से वक़्त हटाकर अपना सारा ध्यान अपनी पत्नी की और लगा दें. इस वक़्त वह अपने परिवार को छोड़ कर सिर्फ आपके भरोसे आपके पास आयी है. उसे सबसे ज्यादा आपकी और आपके वक़्त की जरुरत है.

सुहागरात को यदि आपकी पत्नी थक गयी है तो उसे सेक्स के लिए फ़ोर्स ना करें. उसे आराम कर लेने दें. किसी महापुरुष ने नहीं कहा है की पुरुष अगर सुहागरात को सेक्स नहीं करेगा तो सच्चा मर्द नहीं माना जाएगा. यार दोस्तों के फूहड़ मजाकों की चिंता मत कीजिये. उनकी निगाहों में मर्द बनाना जरुरी नहीं है बल्कि आपकी पत्नी की निगाहों में सच्चा मर्द बनाना बहुत जरुरी है. और ऐसा तभी होगा जब आपकी पत्नी यह महसूस करे कि आप उसे सिर्फ अपनी ख़ुशी और भूख मिटाने के लिए नहीं ले कर आये हैं बल्कि आपको उसके आराम और ख़ुशी की भी चिंता है.

5) आहिस्ता आहिस्ता प्यार की शुरुआत करें: अगर आपको लगता है कि प्यार कि शुरुआत करने का सही समय आ गया है और आपकी पत्नी तन और मन दोनों तरह से आपके साथ संपर्क बनाए के लिए कम्फर्टेबल है तो बेझिझक आगे बढिए और अपने पार्टनर के हाथों को थाम कर प्रणय निवेदन कीजिये. थोड़ी बहुत झिझक और शरमाने के बाद आपकी पत्नी आपको अपनी स्वीकृति दे देगी हालांकि अक्सर यह मौन स्वीकृति होती है. आपको इशारों को समझना होगा. यदि सब सही लगे तो किस करने कि और बढिए. इस वक़्त की अन्य गति-विधियों के लिए आप सेक्स और फॉरपले के बारे में कुछ अच्छी किताबें पढ़ सकते हैं.

ध्यान रहे कि इस वक़्त से पहले ही आप लुब्रिकेंट्स और कंडोम आदि का इंतजाम करके रखिये. एन वक़्त पर इन चीज़ों की खोज सारा मूड किरकिरा कर सकती है.

6) परफॉर्मेंस के डर को मन से निकाल दें : पुरषों के मन में सबसे ज्यादा डर बिस्तर पे परफॉर्म न कर पाने का होता है. अधकचरी सेक्स किताबें पढ़ कर दिमाग में वैसे हजार तरह के काल्पनिक सवाल और चुनौतियां मन में भरी होती हैं. याद रखिये कि यह आपकी सुहागरात है कोई ओलिम्पिक का कंपीटिशन नहीं जहां आपको दुनिया के सामने कुछ कर दिखाना है. यहाँ तो बस आप हैं और आप की पत्नी है जिन दोनों को अपनी आने वाली ज़िन्दगी के गुलाबी पलों की शुरुआत करनी हैं. पुरे आत्मविश्वास के साथ प्यार कीजिये और आनंद लीजिये और दीजिये. यकीन मानिये, आपकी पत्नी को अच्छा लगेगा जब वह आपकी बाँहों में होगी. बस इसी एहसास को बनाये रखिये.

और यदि आप पोर्न फिल्मों को देखने के शौक़ीन हैं तो ध्यान रखिये आप उस रात अपनी पत्नी के साथ हैं किसी पोर्न स्टार के साथ नहीं. अपनी पत्नी  साथ सेक्स क्रिया के दौरान उसके मानसिक सम्मान और शारीरिक सीमाओं का ध्यान रखिये.

7) दोषारोपण न करें : भगवान् न करे, फिर भी यदि आपकी सुहागरात अगर वैसी न गुजरे जैसा आपने या आपकी पत्नी ने सोचा था तो एक दूसरे की गलतियां न निकालें. ज़िन्दगी भर आपको साथ रहना और एक ही बिस्तर पर साथ सोना है. आप चाहें तो अपनी गलती सुधार कर आने वाली ज़िन्दगी कि हर रात को सुहागरात बना सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *