Kitni Baar Karna Chahiye

Kitni Baar Karna Chahiye

Suhagrat.co.in

कितनी बार करना चाहिए?

सुहागरात हर युवा स्त्री व पुरूष का बेहद रोमांचक व हसीन सपना होता है। इस खुशनुमा व मस्ती भरे लम्हें को जीने के लिए दोनों के अरमान मचलते रहते हैं। सुहागरात में जहां, पुरूष अपनी पार्टनर से संभोग करके उसे पूर्ण खुश व संतुष्ट करने का प्रयास करता है। वहीं स्त्री अपने साथी को भरपूर प्यार व सेक्स सुख देने के लिए हर संभव प्रयास करती है। दोनों ही संभोग के लिए लालायित रहते हैं।

सुहागरात बीत जाने के बाद नवयुगल दम्पत्ति उस सेक्स भरे लम्हें को जीने लिए हर समय प्रयासरत रहते हैं। खासकर पुरूष तो अपनी नई नवेली दुल्हन के शारीरिक मोह में इतना खो जाता है कि उसे दिनरात पत्नी से संभोग की ही चाह रहती है।

मगर कहते हैं कि अति किसी भी चीज की हो, हमेशा नुकसानदायक ही होती है। अगर हम ज्यादा खुश हों, तो भी सेहत के लिए हानिकार है और यदि बहुत अधिक चिंतित हैं, तो भी यह हमारी सेहत को प्रभावित करती है।

आप यह हिंदी लेख suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

उसी प्रकार एक सफल सुहागरात मनाने के बाद नवविवाहित दम्पत्तियों को यह भी ध्यान रखना चाहिए, कि हर समय सेक्स पर ही ध्यान न दें। सेक्स में गैप होना भी बहुत जरूरी है।

सेक्स सिर्फ शारीरिक संबंध ही नहीं, बल्कि मानसिक संबंध भी होता है। सेक्स के दौरान आप मानसिक रूप से भी एक दूसरे से जुड़ाव महसूस करते हैं। कई शोधों के मुताबिक, आप सेक्स उसी व्यक्ति के साथ कर सकते हैं, जिससे आप मानसिक और भावनात्मक रूप से जुड़े हों, जैसा कि सुहागरात में स्त्री-पुरूष होते हैं।

आपको चाहिए कि आप जब बहुत गुस्से में हो या फिर आपके अपने पार्टनर से तनाव चल रहा हो तो उस दौरान सेक्स ना करें। अन्यथा आपको इसके नुकसान उठाने पड़ सकते हैं।

हाल ही में आए एक शोध में यह भी बात सामने आई है कि सेक्स में गैप होना जरूरी है यानी रोजाना सेक्स के आपको नुकसान उठाने पड़ सकते हैं। अब सवाल ये उठता है कि वे कौन से कारण हैं, जिनसे सेक्स में गैप होना जरूरी है?

आइए जानते हैं सेक्स में क्यों जरूरी है गैप…

Kitni Baar Karna Chahiye

यह तो सभी जानते हैं सेक्स के जरिए आप चुस्त-दुरूस्त रह सकते हैं । यदि आप अपने पार्टनर से स्वस्थ रिश्ते चाहते हैं तो आपके सेक्सुअल रिलेशन्स का ठीक होना भी बहुत जरूरी हो जाता है।

सेक्स करने के फायदे बहुत हैं, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी आपको उठाने पड़ सकते हैं।

हार्मोंस का संतुलन बनाए रखने के लिए सेक्स रोजाना ना करें:

महिलाओं में शादी के बाद हार्मोंस में बदलाव होता है, ऐसा सेक्सुअल रिलेशन्स के कारण होता है। यदि आप चाहते हैं कि आपको कोई शारीरिक समस्या ना हो तो आपको बीच-बीच में सेक्स करना बंद कर देना चाहिए।

बोरियत से बचने के लिए रोजाना ना करें सेक्स:

इंसान की स्वाभाविक प्रवृति होती है कि वह एक ही चीज से जल्दी ही बोर हो जाता है। ऐसे में यदि आप अपने संबंधों को रोमांचक बनाना चाहते हैं तो आपको सेक्स रोजाना नहीं करना चाहिए। कुछ दिनों बाद सेक्स से आपके बीच प्यार भी अधिक बढे़गा और आप अपने पार्टनर को अपने और करीब महसूस करेंगे।

माहवारी के दौरान ना करें सेक्स:

महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान कई बार बहुत परेशानियां होती हैं तो कई बार महिलाएं बीमार भी पड़ जाती हैं। जिन महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान थोड़ा-सा भी दर्द होता है, उन्हें माहवारी के दौरान सेक्स करने से बचना चाहिए। अन्यथा उनको कोई गंभीर बीमारी होने का खतरा बढ़ सकता है।

इंफेक्शन होने पर ना करें सेक्स:

कई बार आपको सेक्सुअल संबंधी संक्रमण एसटीडी(सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डीजीज) और एसटीआई(सेक्सुअल ट्रांसमिटिड इंफेक्शन) हो तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए, अन्यथा ऐसे इंफेक्शन्स आपके पार्टनर को भी हो सकते हैं।

मानसिक रूप से स्वस्थ ना होने पर ना करें सेक्स:

यदि आपका साथी मानसिक रूप से अस्वस्थ है या फिर वह बहुत चिंता, तनाव या किसी बड़ी समस्या से गुजर रहा है, तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए।

किसी भी वक्त ना करें सेक्स:

कई बार आपका अचानक दिन में सेक्स करने का मूड करता है, लेकिन ठीक इसके विपरीत आपका साथी इसके लिए तैयार नहीं है, तो आपको सेक्स करने से बचना चाहिए या फिर अपने साथी को पहले इसके लिए तैयार करना चाहिए और उसके बाद ही आराम से सेक्स करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

xxx720.vip