Dulhan Or Suhagrat

Dulhan Or Suhagrat

दुल्हन और सुहागरात

दुल्हन जान लें सुहागरात से पहले ही इन बातों को!

जिन शादी योग्य लड़कियों का विवाह अभी नहीं हुआ या फिर जल्द ही शादी होने वाली है, तो यह हिंदी लेख आ सकता है उनके बहुत काम। यूं तो हर युवती व लड़की के मन में अपनी शादी को लेकर हजारों सपने, प्रश्न व उत्सुकता होती है, लेकिन सबसे अधिक बेचैन कर देने वाली बात होती है सुहागरात। शादी से पहले कई तरह के टेंशन जैसे- ज्वैलरी, लहंगा कौन-सा पहनेंगी, कौन से कलर का पहनेंगी या फिर लंहगे के अलावा कुछ अन्य परिधान पहनेंगी, मेकअप, ब्यूटी पार्लर कौन-सा चुनना है आदि बहुत सी चिंताओं में घिरी रहती हैं या फिर यूं कह लो कि व्यस्त रहती हैं। लेकिन चिंता और व्यस्तता अलग और शादी के बाद सुहागरात की उत्सुकता और प्रश्नों व भ्रम का जाल अलग। जहां सुहागरात का ख्याल एक ओर दुल्हनियां के मन में मीठी-सी झुरझुरी पैदा कर देती है, वहीं दूसरी ओर आशंकाओं से भी मन को भर देता है।
आइए बताते हैं कि दुल्हन को सुहागरात से पहले किन-किन बातों को जान लेना चाहिए..

आप यह हिंदी लेख suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

1. पिछली जिंदगी को भुला दें :
विवाह से पूर्व आपने किया क्या, क्या नहीं किया वो सब आपका अतीत था और अब जो विवाह के बाद की जिंदगी है वो आपका वर्तमान और भविष्य दोनों है। इसलिए सुहागरात में अपने पास्ट को बिल्कुल भूल जायें और न ही पति से इस बात की चर्चा करें। पूरा ध्यान सुहागरात और पति के सम्मान में होना चाहिए, इससे वो भी आपका सम्मान कर पायेंगे और आप दोनोें ही एक-दूसरे के साथ सहज महसूस कर सकेंगे। अन्यथा अतीत को सुहागरात के बीच में लाने का प्रयास न केवल आपकी सुहागरात को, बल्कि पूरी जिंदगी को नज़र लगा सकता है।

Suhagrat.co.in

2. इस रात को खास बनाने का प्रयास करें :
दूल्हन को चाहिए इस रात को केवल बढ़िया और सुंदर ही नहीं, बल्कि एक बहुत ही स्पेशल रात बनाने का प्रयास करें। लड़का हो या लड़की विवाह की पूर्व योजना तो दोनों ही तैयार करके रखते हैं, लेकिन केवल सुहागरात को लेकर नर्वस हो जाते हैं और मैंटिलिटी तौर पर खुद को पूर्व तैयार नहीं रखते। वैसे तो ऐसा कई मंत्र या तैयारी नहीं होती, जो सुहागरात के लिए करनी जरूरी होती है। लेकिन फिर भी अगर दुल्हन थोड़ा संयम और हिम्मत करके आगे बढ़े और पति का दिल जीतने का प्रयास करे, तो इस रात को स्पेशल बनाया जा सकता है। इसके लिए पति से घुलने का प्रयास करें, बातें करें, अपने प्रेम का इजहार खुलकर करें, बतायें कि आज से आप सिर्फ उनकी हैं और वो आपके लिए कितने जरूरी हैं। ऐसा करने से पति का आपके प्रति विश्वास और सम्मान दोनों बढे़गा। हो सकता है पति भी नर्वस हो, इसलिए आप उनके मन की बात जानकर उन्हें अपने साथ सहज बनाने का प्रयास करें। उन्हें एहसास करायें कि आप उनके साथ आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं और उन पर अपना सम्पूर्ण प्रेम न्यौछावर करने को आतुर हैं। ऐसा करने से जहां पति के अंदर उत्साह जागेगा, वहीं वह भी आपसे खुलकर अपनी हर बात रख पर पायेंगे। इसी से आपकी सुहागरात बन जायेगी एक स्पेशल रात।

Dulhan Or Suhagrat

3. पहला स्पर्श यादगार बनायें :
यह तो दुल्हा-दुल्हन दोनों को पता होता है कि इस रात को स्पर्श का बहुत महत्व होता है, जोकि होना ही है। लेकिन इस रात को अपनी कोई भी प्रतिक्रिया देना इस बात पर भी निर्भर करता है कि लड़का-लड़की एक-दूसरे को कितना जानते व समझते हैं। लेकिन फिर भी इस रात का पहला शारीरिक स्पर्श यानी टच बहुत ही खास होता है। चाहे वो हाथों का, गालों या फिर अन्य किसी बाॅडी का स्पर्श हो। पहला स्पर्श का अनुभव दोनों को ही अंदर तक रोमांचित कर देता है। वहीं एक-दूसरे को अच्छे से न जान पाने के कारण पहला टच कुछ अजीब भी लग सकता है, इसलिए जब पति आपको पहली बार छुएं तो हो सकता है कि आपको असहज लगे या फिर अटपटा लगे। लेकिन तब भी आपको उन्हें ऐसा महसूस कराना है कि आप उनके छूने से किसी दूसरी ही दुनियां में पहुंच गई हैं। जैसे उनके छूने से आप अनमोल हो गई हैं। अगर आप सचमुच उनके पहले स्पर्श से असहज महसूस कर रही हैं, तो इसके लिए आप एक लंबी सांस लेकर खुद को रिलेक्स कर सकती हैं।

Suhagrat.co.in

यह भी पढ़ें- ल्यूकोरिया(सफेद पानी आना)

4. उत्तेजक और आरामदायक वस्त्र पहनें : 
याद रखिए अगर आप सुहागरात को संभोग की दृष्टि से आनंददायक बनाना चाहती हैं, तो इसके लिए दो चीजें अति आवश्यकत होती है एक तो उत्तेजना की और दूसरे सुहागकक्ष में शारीरिक और मानसिक रूप से कम्फ्र्टेबल महसूस करने की। तभी आप इस रात को दिल से एन्ज्वाॅय कर पायेंगी। क्योंकि आपके उत्तेजक वस्त्र पति की कामेच्छ को और भी प्रबल रूप देने में मदद करेगा, जिससे शायद उनकी शर्म व झिझक भी दूर हो जाये और वह आपको पूर्ण संतुष्टी प्रदान करने में सफल रहें। उत्तेजक के अलावा अगर आपके वस्त्र ऐसें होंगे, जिनमें आप खुद को सहज महसूस कर पा रही होंगी, तो आप शांत और धैर्य पूर्वक संभोग का आनंद ले पायेंगी और दे पायेंगी।

5. अच्छी और सफल सुहागरात की कामना न रखें :
हर लड़का-लड़की चाहते हैं कि उनकी सुहागरात एक यादगार रात साबित हो। इस रात में सफलता हाथ लगे और हर प्रकार की खुशी हासिल कर ली जाये। लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है कि पहली रात में ही सबकुछ हासिल हो जाये। या फिर आपने जैसा-जैसा इस रात के लिए सोच के रखा है, ठीक वैसा ही आपकी सोच के अनुरूप हो। याद रखिए कि यह आप दोनों की पहली रात है और पहला अनुभव है, इसलिए अपने पार्टनर से एक ही रात में अधिक अपेक्षा न रखें। अब आपको पूरी जिंदगी साथ बितानी है और इस जिदंगी में जाने कितने दिन और कितनी रातें आपके नसीब में आयेंगी। इन रातों और दिनों में आप अपने ख्वाब पूरे कर सकती हैं।

6. केवल संभोग को ही इस रात का आधार न समझें :
कई कुंवारी लड़कियां अपनी शादीशुदा सहेलियों, हम उम्र भाभियों से उनकी सुहागरात के किस्से सुनकर अपनी सुहागरात को लेकर भी कई तरह के काल्पनिक सपने संजोने लगती हैं। उन्हें भी लगने लगता है कि उन्हें भी अपने पतियों से ऐसा ही प्यार और जोश प्राप्त होगा। वे भी आनंद के सागर में खूब गोते लगायेंगी। अगर आप भी ऐसी ही मनोदशा लेकर सुहागरात में बैठी हैं, तो आपको थोड़ा धैर्य व समझ से काम लेने की आवश्यकता है। कई बार शादी की थकावट या फिर किसी अन्य कारण से पति-पत्नी को पहली रात में नहीं मिलाया जाता या फिर मिलकर भी पति की ओर से कोई पहल देखने को नहीं मिल पाती। ऐसे में किसी प्रकार का भ्रम या चिंता अपने मन में पालने की भूल न करें। बस यह याद रखें कि सुहागरात केवल सेक्स का नाम नहीं है, इस रात को आप एक-दूसरे को समझ कर एक-दूसरे के करीब आने का प्रत्यन करें। एक-दूसरे की बांहों में बांहें डाले या फिर हाथों को हाथों में लिए बातें कर सकते हैं। अपने प्यार का इजहार कर सकते हैं। सेक्स के लिए तो कई रातें आयेंगी, जिनसे आप उन्हें अपने और करीब ला सकती हैं।

यह भी पढ़ें- शीघ्रपतन

7. अपने प्रथम संभोग-कष्ट के लिए रहें तैयार :
सुहागरात में लड़कियां सेक्स के लिए तो तैयार रहती हैं मगर प्रथम बार में होने वाले कष्ट के लिए खुद को पहले से तैयार नहीं रखतीं। कुंवारी लड़कियां पहली बार सुहागरात में जब संभोग करेंगी तो कष्ट होना अनिवार्य है और हो सकता है थोड़ी सी ब्लडिंग भी हो जाये। इससे आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि यह एक सामान्य व स्वाभाविक बात है। कुछ पल के बाद बाद आपका कष्ट जाता रहता है और आपको धीरे-धीरे आनंद की अनुभूति होने लगती है। अगर फिर भी आपको बहुत अधिक कष्ट हो, तो इसके लिए आप लंबी-लंबी सांसे लें और खुद को मानसिक रूप से आराम देने की कोशिश करें। तब भी आराम नहीं पहुंचे, तो इसके लिए आप खुलकर, लेकिन प्रेम से पति को अपनी दशा के बारे में बतायें और उन्हें संभल कर आगे बढ़ने को कहें या फिर बाद के लिए सेक्स को छोड़ दें। ऐसा तो है नहीं कि यह पहला अवसर है, ऐसे कई अवसर आपकी जिंदगी में आयेंगे।

8. किसी अनुभवी और विश्वसनीय से सलाह अच्छा विकल्प है :
जी हां, यदि आपके मन में किसी भी तरह की कोई भी शंका या घबराहट हो तो आप किसी भी ऐसे व्यक्ति से जिस पर आपको पूरा भरोसा हो सलाह ले सकती हैं। फिर चाहे वो आपकी अनुभवी सहेली हो, भाभी, चाची हो या फिर आपकी अपनी मां ही क्यों न हो, सलाह-मश्वरा कर सकती हैं। इससे आपको दिमागी रूप से बहुत राहत महसूस होगी और आप खुद को तैयार कर पाने में सफल महसूस करेंगी।

सेक्स से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *