Acchi Suhagrat Kaise Manaye

Acchi Suhagrat Kaise Manaye

Suhagrat.co.in

अच्छी सुहागरात कैसे मनायें?

सुहागरात का नाम जुंबा पर आते ही हर युवा स्त्री-पुरूष मन रोमांच और एक मीठे एहसास से भर जाता है। दिल में एक अजीब सी बेकरारी व कसक जाग उठती है कि कैसी होगी हमारी पहली मिलन की रात यानी सुहागरात। जहां पुरूष को स्त्री शरीर पाने की लालसा होती है, वहीं स्त्री के मन में भी थोड़ा भय और रोमांच की खिचड़ी पकती रहती है। अगर सुहागरा में नये-नये बने पति-पत्नी थोड़ा संयम और एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करते हुए आगे बढ़ें तो सुहागरात में चार चांद लग सकते हैं।
वैसे सुहागरात पर थोड़ी घबराहट व संकोच होना स्वाभाविक है, फिर भले ही आप अपने पार्टनर को बहुत पहले से ही क्यों न जानते हों। शादी की लंबी-चैड़ी रस्में निभाते-निभाते बहुत ज्यादा थकान दुल्हा-दुल्हन को ही जाती है, जिससे सुहागरात पर संभोग करना आपको थोड़ा तनाव में डाल सकता है। खासकर जब ये आपका पहला अनुभव हो।

क्या करें-

आत्मविश्वास:
आत्मविश्वास से बढ़कर कुछ नहीं है! इसलिए सुहागरात पर पति-पत्नी को चाहिए कि अपने आत्मविश्वास को बनायें रखें और एक-दूसरे के सामने जितना हो सके दिखायें कि आप पूरी तरह निश्चिंत हैं, इससे आपके पार्टनर का आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।

बातचीत:
सुहागरात में एक-दूसरे से खुलकर बात करना, आपके तनाव को दूर करने में कारगार साबित हो सकता है। आपसी संवाद यानी बातचीत करके आप एक-दूसरे से धीरे-धीरे खुल सकते हैं। संभोग के समय भी एक-दूसरे को अपने भाव बता पाना मददगार साबित होता है। चाहे शब्दों से या फिर आहों से, लेकिन उन्हें जरूर महसूस करा दें कि जो वो कर रहे हैं, आपको उसमें आनंद आ रहा है।
याद रखें कि संभोग आप दोनों के लिए संतोषपूर्ण व आनंदपूर्ण होना चाहिए। तो अगर आप अपने पार्टनर के भाव समझ पा रहे हैं, तो वैसा ही करें जो उन्हें ज्यादा अच्छा लग रहा है।

आप यह हिंदी लेख suhagrat.co.in पर पढ़ रहे हैं..

शुरूआत खुद करें:
एक नया व्यक्ति या इंसान आपके घर आया है और आगे चलकर भविष्य में उसी ने आपका और आपने उसका साथ निभाना है। इसलिए सुहागरात पर शुरूआत यानी पहल कौन करेगा, इसके लिए बिलकुल भी इंतजार मत कीजिए और खुद पहल कीजिए। संभव हो तो दोनों मिलकर इसकी शुरूआत करें। इससे किसी के मन में संकोच नहीं रहेगा और यह रात आप दोनों के लिए यादगार बन जायेगी।

उपहार दीजिए:
यह पहली रात ही आपकी जिंदगी की नई शुरूआत है, इसलिए कोई न कोई उपहार जरूर दें। आप जो भी उपहार देंगे, वह हमेशा के लिए यादगार बन जाएगा। पार्टनर को नजदीक लाने का यह सबसे अच्छा तरीका हो सकता है। आप सरप्राइज गिफ्ट भी दे सकते हैं, इसमें रोमांटिक हनीमून पैकेज, हाॅट कपडे़, अच्छी-सी ज्वेलरी आदि अच्छे विकल्प हो सकते हैं। स्त्रियों के मन को गहने सबसे ज्यादा भाते हैं।

आहिस्ता और धीरे:
सुहागरात से संबंधित बातें और हंसी-मजाक शायद आपको इसका सच जानने की हड़बड़ाहट में डाल सकते हैं। लेकिन इस सबकी बजाय आहिस्ता से इसका आनंद उठाएंगे तो सुहागरात का अनुभव उत्तम रहेगा। अगर ये पहली रात संभोग के लिहाज से यादगार रात न भी हो, लेकिन प्यार और रोमांस का ये पल जरूर यादगार बन सकता है।

suhagrat.co.in

क्या न करें-

ज्यादा उम्मीद न रखें:
सुहागरात पर संभोग आप दोनों के बीच जैसा भी हो, मगर आप पति-पत्नी के लिए ये रात हमेशा खास ही रहेगी, इसीलिए आपको चाहिए कि इन विशेष क्षणों का पूरा-पूरा आनंद लें। आप दोनों के बीच प्यार की नींव को मजबूत में इस रात की बहुत बड़ी भूमिका रहेगी।

सुहागरात शब्द को लेकर तनाव में न रहें:
पूरे विवाह की भागदौड़, रिश्तेदारों की आवभगत, अनगिनत रीति-रिवाज और पार्टी की धूमधाम से यदि आप बहुत थक चुकें हैं, तो आप दोनों इसे अगली सुबह के लिए भी टाल सकते हैं। ऐसा करने से कोई बिजली नहीं टूट पड़ेगी सर पर। हो सकता है शायद सुबह की खिली ताजगी, इस एहसास को बेहतर बना दे। इसे सिर्फ नाम भर के लिए करना सही नहीं।

Acchi Suhagrat Kaise Manaye

अधिक उतावलापन न दिखायें:
शादी की पहली रात यानी सुहागरात को आपकी नई जिंदगी की शुरुआत होती है। ऐसे में एक्साइटेड होना स्वाभाविक है, इसलिए इस दिन आप बहुत उतावले भी होंगे। लेकिन इस रात ज्यादा एक्साइटेड होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि जल्दी का काम शैतान का काम होता है। ज्यादा उतावलापन आपके मजे को किरकिरा कर सकता है। इसलिए ज्यादा एक्साइटेड होने के बजाए पेशेंस दिखाइए।

प्रयोग न करें:
कहते हैं कि फस्र्ट इंप्रेशन इज़ लास्ट इंप्रेशन यानी व्यक्तिगत रूप से और व्यवहारिक रूप से जो आपकी शुरूआत में ही छवि उभर कर आती है, चाहे वो अच्छी हो या बुरी, वो छवि आपकी हमेशा लिए बनकर रह जाती है। यानी पहले अवसर में ही पता चल जाता है कि आप किस प्रकार के इंसान हो। सुहागरात की रात यादगार बनाने की रात होती है, इसलिए इस रात को ज्यादा प्रयोग करने से बचें। ऐसी कोई हरकत न करें, जिसके कारण आपको पार्टनर के सामने हमेशा के लिए शर्मिंदा रहना पड़े। संकोच न करें और तनाव भी न लें। पूरे विश्वास और हंसी-खुशी के साथ नई जिंदगी की शुरूआत करें।

पहली बार है, ऐसी सोच को खुद पर हावी न होने दें:
उत्तम संभोग के लिए कई दफा दोनों पार्टनर्स को अभ्यास की आवश्यकता होती है। खासकर जब दोनों का ये पहला अनुभव हो। आपको शुरू में थोड़ा अजीब लगना भी स्वाभाविक है। चीजें आराम से और संयम से करें और अपने एहसास अपने साथी के साथ बाटें। अगर एक-दूसरे के लिए आदर और प्यार होगा तो शायद समय के साथ संभोग अपने आप बेहतर हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *